भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुझे जीना ही होगा / ओसिप मंदेलश्ताम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: ओसिप मंदेलश्ताम  » संग्रह: तेरे क़दमों का संगीत
»  मुझे जीना ही होगा

मुझे जीना ही होगा
हालाँकि मर चुका हूँ मैं
दो-दो बार

और नगर यह
बाढ़ के कारण बदहवास-सा है

कितना अच्छा था वह
कितना ख़ुश और कितना उदास
वैसे ही जैसे हल का फाल
चमकता है चिकना
जैसे अप्रैल के महीने में
दिखता है चटियल मैदान

और आकाश !
आकाश दिखाई देता है
जैसे अमर अनन्त वितान
यानी — तेरी बुओनारोत्ती[1]

रचनाकाल : मई, 1935, वरोनिझ

शब्दार्थ
  1. कवि, चित्रकार और मूर्तिकार माइकेल एंजेलो का कुलनाम। बाद में विशालकाय रचनाएँ रचने की उनकी रचनात्मक-शैली को भी बुओनारोत्ती-शैली के नाम से पुकारा गया।