भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुझे जीवन ऐसा ही चाहिए था / कुमार मुकुल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यह लिखते
कितनी शर्म आएगी
कि मैंने
कष्ट सहे हैं

मुझे जीवन
ऐसा ही चाहिए था

अपने मुताबिक़

अपनी गलतियों से
सज़ा-धजा।