भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुझे मोह नहीं है / शकुन्त माथुर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुझे मोह नहीं है
उम्र का
ढलती है तो ढल जाए
जलती है तो जलती रहे
बुझती है तो बुझ जाए

मुझे उम्र ने कुछ दिया नहीं
या सकुच मैंने लिया नहीं
ग़लती की बारी-बारी
मैं हारी

खोए हैं लेने वाले क्षण
खोए हैं देने वाले क्षण
अब ठहर गई
यादों की लहर
और उन्हीं में
अब मैं
ठहरी हूँ।