भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

मुझे होशियार लोगों को कभी ढ़ोना नहीं आया / आनंद कुमार द्विवेदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुझे होशियार लोगों को कभी ढ़ोना नहीं आया
कि ज़ालिम की तरह बेशर्म भी होना नहीं आया|

मैं यूँ ही घूमता था नाज़ से, उसकी मोहब्बत पर,
मेरे हिस्से में उसके दिल का इक कोना नहीं आया|

अगर सुनते न वो हालात मेरे, कितना अच्छा था
ज़माने भर का गम था, पर उसे रोना नहीं आया|

खुदा को भी बहुत ऐतराज़, है मेरे उसूलों पर,
वो जैसा चाहता है मुझसे वो होना नहीं आया|

नहीं हासिल हुई रौनक, तो उसकी कुछ वजह ये है
बहुत पाने की चाहत थी मगर खोना नहीं आया|

मैं अक्सर खिलखिलाता हूँ, मगर ये रंज अब भी है,
मुझे 'आनंद' होना था ...मगर होना नहीं आया|