भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुझ सेवक की लाज राख / हरियाणवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुझ सेवक की लाज राख जगदम्बा बेरी आली हे
मात संत हितकारी करी तन्नै सिंह सवारी हे
मात सदा तेरे पै छत्र सुवर्ण साजै
नगरकोट तज मेले के दिन बेरी आन बिराजै