भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुझ से अमरता की आप बात न करें / ओसिप मंदेलश्ताम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: ओसिप मंदेलश्ताम  » संग्रह: तेरे क़दमों का संगीत
»  मुझ से अमरता की आप बात न करें

मुझ से

अमरता की

आप बात न करें

मैं उसे तनिक भी झेल नहीं सकता

चूँकि अमरता यह

क्षमा नहीं करती मुझे

मेरी अल्हड़ता, मेरा प्रेम


सुनाई दे रहा है मुझे स्वर

बढ़ रही है वह अनन्त

लुढ़क रही है गेंद की तरह अर्धरात्रि में


पर जो पहुँचेगा इसके निकट

उसके लिए होगी

यह बड़ी विकट


झाग की तरह

उसका विशाल रूप

गूँज रहा है धीमे स्वर में

और प्रसन्न मैं सोच रहा हूँ

सौन्दर्य और तुच्छता के विषय में


(रचनाकाल : 1909)