भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुझ से बड़ा है मेरा हाल / अहमद 'जावेद'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुझ से बड़ा है मेरा हाल
तुझ से छूटा तेरा ख़याल

चार पहर की है ये रात
और जुदाई के सौ साल

हाथ उठा कर दिल पर से
आँखों पर रक्खा रुमाल

नंग है तकिये-दारों का
पा-ए-तलब या दस्त-ए-सवाल

मन जो कहता है मत सुन
या फिर तन पर मिट्टी डाल

उजला उजला तेरा रूप
धुँदले धुँदले ख़द्द-ओ-ख़ाल

सुख की ख़ातिर दुख मत बेच
जाल के पीछे जाल न डाल

राज-सिंघासन मेरा दिल
आन बिराजे हैं जग-पाल

किस दिन घर आया 'जावेद'
कब पाया है उस को बहाल