भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुट्ठी भर उजियाळो / संजय आचार्य वरुण

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

निजरां सूं कीं कैवणो
मूंडै सूं कीं
कैवण सूं बत्तो हुवै
असरदार
म्हैं सीखग्यो।
म्हैं जाणग्यो
कै रात रै अंधारै मांय
न्हायोड़ी धरती
जे चंदरमा सूं मांग लेवै
मुट्ठी भर उजियाळो
तो चंदरमा
मुंडो फेर’र खिसक जावै
अर घणी बार
वो ई चंदरमा
दिन थकै आय धमकै
धरती री छाती माथै
अणमावतो
उजियाळो लेय’र।