भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुद्दत से वो ख़ुशबू-ए-हिना ही नहीं आई / फ़सीह अकमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुद्दत से वो ख़ुशबू-ए-हिना ही नहीं आई
शायद तिरे कूचे की हवा ही नहीं आई

मक़्तल पे अभी तक जो तबाही नहीं आई
सरकार की जानिब से गवाही नहीं आई

दुनिया का हर इक काम सलीक़े से किया है
हम लोगों को बस याद-ए-ख़ुदा ही नहीं आई

जिस वक़्त कि वो हाथ छुड़ाने पे ब-ज़िद था
उस वक़्त कोई याद दुआ ही नहीं आई

लहजे से न ज़ाहिर हो कि हम उस से ख़फ़ा हैं
जीने की अभी तक ये अदा ही नहीं आई

रूख़्सत उसे बा-दीदा-ए-नम कर तो दिया था
फिर इस से बड़ी दिल पे तबाही नहीं आई

मिलती तो ज़रा पूछते अहवाल ही उस का
अफ़्सोस इधर बाद-ए-सबा ही नहीं आई