भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुद्दा ए मुद्दई मतलब की बात / रविंदर कुमार सोनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुद्दा ए मुद्दई मतलब की बात
आप ने भी ख़ूब की मतलब की बात

बे ग़रज़ दीवान्गान ए शौक़ हैं
कब कही, किस ने सुनी मतलब की बात

होश में आने नहीं देते मुझे
कह न दूँ मैं भी कोई मतलब की बात

हो गया मायूस आख़िर दिल मिरा
हाए तू ने क्यूँ सुनी मतलब की बात

कहते कहते दास्तान ए दर्द ए दिल
लब पे आ कर रुक गई मतलब की बात

बात अच्छाई की भी सुनते नहीं
जिन को है लगती बुरी मतलब की बात

बुत ख़ुदा हो जाएंगे, उन से अगर
ऐ रवि कह दें कभी मतलब की बात