भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुनिया सोच रही है / प्रकाश मनु

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुनिया सोच रही है, यह तो
अरे, बड़ा है चक्कर,
चक्कर क्या, मुझको तो लगता
है कोई घनचक्कर।

पापा कहते, आओ-आओ,
तुम्हें दिखाऊँ मुनिया,
एक ग्लोब में नदियाँ, पर्वत
इसमें सारी दुनिया।

मगर जरा से एक गोले में
कैसे दुनिया सारी,
बात समझ न आई, मुनिया
सोच-सोचकर हारी।