भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुने एकली जानी ने / गुजराती लोक गरबा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

मुने एकली जाणी ने कान ऐ छेडी रे....


मारो गरबो ने मेली ने हालतों था..

नही तो कही दऊँ यशोदा ना कान माँ...


मुने एकली जाणी ने कान ऐ काने छेडी रे..


बेडलुं लैने हूँ तो सरोवर गई थी..

पाछी वडी ने जोयु तो बेडलुं चोराई गयू

मारा बेडला नो चोर मारे केम लेवो खोळी

पछी कही दऊँ यशोदा ना कान माँ...


मुने एकली जाणी ने काने छेडी रे..

मुने एकली जाणी ने काने छेडी रे..