भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुन्किर / मुंशी रहमान खान

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुस्लिम नहीं कहावई चलैं कुरान मग त्‍याग।
घर में हीरा छोड़कर बाहर लेवैं साग।।
बाहर लेवैं साग आय भाइन भड़कावै।
करैं हरामी काम आप मूस्लिम कहलावैं।।
करैं बखेड़ा दीन में बनें खुदा घर मुजरिम।
कहैं रहमान जहन्‍नुम जैहैं मुन्किर होकर मुस्लिम।।