भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

मुरलिया बाजे जमुना तीर / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

मुरलिया बाजे जमुना तीर
बंशी बाजी जमुना तीर
हाथों के गहिने राधा पैरों में पहिने
ओढ़ आई उल्टा चीर रे। मुरलिया...
संग की सहेली मैंने कुआओं पे छोड़ी
छोड़ आई कुल की रीति रे। मुरलिया...
सास ननद मैंने सोवत छोड़ी
छोड़ आई साजन और बीर। मुरलिया...
ऐसे प्रेम रंगे सब मोहन
बिनती करूं मैं रघुबीर। मुरलिया...