भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुरलीखेड़ा हाटी कोरान सोना डहनी बोचोकेन डो बाई / कोरकू

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

मुरलीखेड़ा हाटी कोरान सोना डहनी बोचोकेन डो बाई
मुरलीखेड़ा हाटी कोरान सोना डहनी बोचोकेन डो बाई
बिडे डो बिडे बाई आमा लिजटेन परवा आडी हेजेवा बाई
बिडे डो बिडे बाई आमा लिजटेन परवा आडी हेजेवा बाई
बिडे डो बिडे बाई आमा लिजटेन परवा आडी सेनेवा डो बाई
बिडे डो बिडे बाई आमा लिजटेन परवा आडी सेनेवा डो बाई
इंज नी चौफार टेन मा बिडे वा डो आयोम
इयानी साथी लियेन बारह गाड़ा जानोम रेचा टीन्जकेन आबा
इयानी साथी लियेन बारह गाड़ा जानोम रेचा टीन्जकेन आबा
इंच नी चौफार टेन मा बिडे वा आबा
इयानी साथी लियेन बारा गाड़ा डेघा रेचा टीन्जकेन आबा
इयानी साथी लियेन बारा गाड़ा डेघा रेचा टीन्जकेन आबा
ईटा टेन्ज नी परवा आडी सेनेवा जा आबा
लिन्जटेन भी जरिया जाबू लोखेज बा जा आबा
लिन्जटेन भी जरिया जाबू लोखेज बा जा आबा
इंज नी चौफार टेन मा बिडे वा जा आबा
इंज नी भुरु आधाना एन्टेन गिटीज केनजा आबा
इंज नी भुरु आधाना एन्टेन गिटीज केनजा आबा

स्रोत व्यक्ति - गुलाबी बाई और लक्ष्मण पर्ते, ग्राम - मुरलीखेड़ा