भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुर्दाघर / माया राही

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुर्दा घर में
वक़्तु ॾाढो मजे़ में गुज़रियो
ट्रेन हेठां आयल औरत
पंहिंजे धड़ सां
गुम थियल सिसीअ में
नक जी फुली,
कननि जा वाला,
ऐं गले जो मंगल सूत्रु
ॻोल्हीन्दी रही।

आपघात करे आयलु
बेरोज़गार नौजवानु
पंहिंजीअ ज़ाल लाइ हिकु जे़वरु
पुट लाइ हिक साईकिल
ऐं धीउ लाइ
हिक ई गुॾी

हर हर ख़रीद कन्दो रहियो!
लम्बी बीमारीअ में
मरी आयलु हिकु मरीजु
ॿियनि मरीज़नि खां
सेहत जो हालु पुछन्दो रहियो
ऐं खेनि मुफ़ीद नुस्ख़ा ॾसीन्दो रहियो
हिक लावारिस नेता
विञायल कुरिसीअ ते वेही
तक़रीर ते तक़रीर
ऐं अंजाम ते अंजाम
कन्दो रहियो!
केॾो न कूडु चयो वियो आहे
त मुए खां पोइ
इनसानु कुझु थथो खंयों वञे!