भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुस्तक़र की ख़्वाहिश में मुंतशर से रहते हैं / साबिर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुस्तक़र की ख़्वाहिश में मुंतशर से रहते हैं
बे-कनार दरिया में लफ़्ज़ लफ़्ज़ बहते हैं

सब उलट-पलट दी हैं सर्फ़-ओ-नहव-ए-देरीना
ज़ख़्म ज़ख़्म जीते हैं लम्हा लम्हा सहते हैं

यार लोग कहते हैं ख़्वाब का मज़ार उस को
अज़-रह-ए-रवायत हम ख़्वाब-गाह कहते हैं

रौशनी की किरनें हैं या लहू अंधेरे का
सुर्ख़-रंग क़तरे जो रौज़नों से बहते हैं

ये क्या बद-मज़ाक़ी है गर्द झाड़ते क्यूँ हो
इस मकान-ए-ख़स्ता में यार हम भी रहते हैं