भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुहब्बत का ज़माना आ गया / कविता किरण

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुहब्बत का ज़माना आ गया है
गुलों को मुस्कुराना आ गया है।

नयी शाखों पे देखो आज फिर वो
नज़र पंछी पुराना आ गया है।

जुनूं को मिल गयी है इक तसल्ली
वफाओं का खज़ाना आ गया है।

उन्हें भी आ गया नींदे उडाना
हमें भी दिल चुराना आ गया है।

छुपाया था जिसे हमने हमी से
लबों पर वो फ़साना आ गया है।

नज़र से पी रहे हैं नूर उसका
संभलकर लडखडाना आ गया है।

मुहब्बत तो सभी करते हैं लेकिन
हमें करके निभाना आ गया है।

हमें तो मिल गया महबूब का दर
हमारा तो ठिकाना आ गया है।

हम अपने आईने के रु-ब-रु हैं
निशाने पर निशान आ गया है।

अँधेरा है घना हर और तो क्या
"किरण"को झिलमिलाना आ गया है।