भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुहिंजा पिंरी प्यारा, मुंहिंजे जीअ जा जियारा / लीला मामताणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुहिंजा पिंरी प्यारा, मुंहिंजे जीअ जा जियारा
सुखी रहीं सलामत, मुंहिंजे साह जा सहारा

जे लुड़िक मूं वहाया देरा ग़मनि लॻाया
चयुमि कीन चपति सां-चुप चाप नीर वहाया
लुटिजी वेई हुई ज़िंदगी छुटिजी विया किनारा
मुहिंजा पिंरी प्यारा, मुंहिंजे जीअ जा जियारा

दिलि में अथमि हीअ आस, पिंरी शाल पुॼाए
विछुड़ियलु आ मुहिब मुंहिंजो, मूंखे झट सां मिलाए
ही ज़ख्म रिसी ताज़ा थिया, धारा ही धारा
मुहिंजा पिंरी प्यारा, मुंहिंजे जीअ जा जियारा

शल यार कंहिंजो कंहिं सां ही बेवफ़ा न थिए
पोइ भल हुजे परे पर मूंसां ख़फ़ा न थिए
रुठल मुहिब परचनि, पर पवनि न घारा
मुहिंजा पिंरी प्यारा, मुंहिंजे जीअ जा जियारा