भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेखला से बंध दुकूल सजे... / कालिदास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: कालिदास  » संग्रह: ऋतुसंहार‍
»  मेखला से बंध दुकूल सजे...

मेखला से बंध दुकूल सजे सघन मनहर हुए हैं,

अलसभार नितम्ब माँसल-बिम्ब से कंपित हुए हैं

हार के आभरण में स्तन चन्दनांकित हिल रहे हैं

शुद्ध स्नान कषायगंधित अंग, अलकें झूम हँसतीं

रूप की ज्योत्स्ना बिछा कर ग्रीष्म का अवसाद हरतीं

योषिताएँ कामियों को तृप्ति देती हैं मधुतर

प्रिये ! आया ग्रीष्म खरतर !