भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेघ धरे चुम्बन ! / कविता भट्ट

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


28
आनंददायी
तेरा प्रेम सदा ही
मैं जी रही हूँ
एक-एक पल में
प्रिय! सौ-सौ जीवन
29
उपकार है
तेरा मुझ पर यों
नीर-गगन
धरा पर बरसे
मेघ धरे चुम्बन
30
बूँद रहित
मैं श्वेत बदली- सी
तू काला मेघा
प्रिय ! तू अपेक्षित
और मैं उपेक्षित
31
न धरा अंक
नहीं सो सकी संग
माँ मजदूरन
ईंटें ढोती ही रही
वो ऊँचे बँगलों की
32
यह जीवन
बालश्रमिक- सा है
अबोध किन्तु
अथक जागता है
ढोता अभिलाषाएँ
-0-