भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेनहोल में घुसा आदमी / नील कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चाहता तो मैं भी यही हूँ
कि मेनहोल में घुसा वह आदमी
साबुत बाहर निकले ।

वह आदमी जो जानता था
कि किसी की नाक पर बैठकर
उसका चेहरा पोंछना
कितना बचकाना लगता है
और यह कि मुट्ठी में आग
लेने से फफोले छलछला आते हैं ।

फिर भी उसने ऐसा ही कुछ
करना चाहा
यह जानते हुए भी
बाँस की फट्टी और लाल गमछा
जिनके साथ वह अंदर घुसा है
थक हारकर उसकी शव-यात्रा के
सामान बन सकते हैं
लेकिन किसी को तो पहले
घुसना था व्यवस्था के मेनहोल में ।

वह आदमी एक मुकम्मिल इंसान है
जो पत्थरों से टकरा कर सिर
एक लाल निशान छोड़ जाना चाहता है
जो कभी इंक़लाब का परचम बन लहराए ।

मैं चाहता हूँ, जब वह बाहर आए
तो सबसे पहले बढ़ कर
उसका परचम थाम लूँ ।