भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेपल से भी कभी पूछना / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बाहर भीतर कोलाहल है
ढेर गरल, कुछ गंगाजल है।
सबको में पहचानूँ कैसे
सबके द्वार मची हलचल है।

दर्पण-सा मन बना ठीकरा
जग में माटी के चोले का ।
दो कौड़ी भी दाम मिला ना
अरमानों के इस झोले का।

बरसों बीते पत्र पुराने
झोले में थे खूब सँभाले।
जिनका अता-पता ना जाने
उनको कैसे करें हवाले।

कोई तो बस दो पल दे दे
खुद से ही कुछ कर लें बातें
अब उनसे क्या कहना हमको
दी जिस-जिसने काली रातें।

मेपल से भी कभी पूछना
निर्जन वन है कैसे भाया
पतझर जब आ बैठा द्वारे
कैसे उसने पर्व मनाया!
-0-