भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरा गीत चिड़ियों के शक़्ल में होगा / विपिन चौधरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं अपने एकान्त को
गर्म रेगिस्तान में रोप
दूर तक पसरे हुए रेत में बैठ
इन्तज़ार करूँगी

मेरा प्रेम
कविता की
शक़्ल में होगा
गीत
चिड़ियों की शक़्ल में

जीवन
मेरी दायीं कलाई के इर्द-गिर्द घूमेगा
जो देर तक तुम्हारे
पकड़े रहने की वजह से अभी भी रक्तिम आभा में है

तुम्हें आज बता ही दूँ कि
तुम्हारे चले जाने के बाद
मैं एक ज़िद्दी धुन में बदल जाती हूँ
और तुम्हारी स्मृति
एक घासलेटी आखेट में