भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरा गीत नही बस मेरा / राजेश गोयल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वो मेरा बस दर्द भी मेरा, मेरा गीत नहीं बस मेरा।
मेरा स्वप्न नही बस मेरा, मेरा गीत नहीं बस मेरा॥
उसके नयनों मे मिलती,
मीठे सपनों की भाषा।
मेरी साँसों में पलती,
नूतन अनुपम अभिलाषा॥
         वो मेरी साँसों में रहता, मेरा गीत नहीं बस मेरा।
वो मेरा बस दर्द भी मेरा, मेरा गीत नहीं बस मेरा॥
आँसू से भीगी आँखे भी,
सपनों में मुस्काती।
दर्द भरी साँसे अपनी
गीत प्यार के गाती।
वो मेरे गीतों में रहता, मेरा गीत नहीं बस मेरा।
वो मेरा बस दर्द भी मेरा, मेरा गीत नहीं बस मेरा॥
वो मेरी पीड़ा सा मादक,
और मेरा सपना कोमल।
वो मेरी आखांे में रहता,
और मेरे मन में निश्चल॥
वो मेरे प्रश्नों में रहता, मेरा गीत नहीं बस मेरा।
वो मेरा बस दर्द भी मेरा, मेरा गीत नहीं बस मेरा॥