भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरा गुड्डा चुरा लिया है / प्रकाश मनु

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पापा,
तंग करता है भैया!

कार तोड़ दी इसने मेरी
फेंक दिए दो पहिए दूर,
हॉर्न टूटकर अलग पड़ा है
बत्ती भी है चकनाचूर।
कहता-पापा से मत कहना,
ले लो मुझसे एक रुपैया!

लकड़ी का था मेरा हाथी
इसने दोनों कान उखाड़े,
हिरन बनाए थे मैंने दो
कॉपी से वो पन्ने फोड़े।
तोड़-फोड़ डाली, पापा जो
मेले से लाई थी गैया!

इसने ले ली गुड़िया मेरी
ठुमक-ठुमक पीती जो पानी,
एक नहीं, करता रहता है
हरदम ऐसी ही मनमानी।
मेरा गुड्डा चुरा लिया है,
कहता-ले लो चोर-सिपैया!