भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरा चांद / महेन्द्र भटनागर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरा चांद मुझसे दूर है !

सूने व्योम में
रोती अकेली रात है,
चारों ओर से
तम की लगी बरसात है,

इसलिए ही आज
निष्प्रभ हर कुमुद का नूर है !

किस एकांत में
जाकर तड़पता है सरल,
भय है प्राण को
भारी, न पीले रे गरल,

क्योंकि ऊँचे भव्य
घर में क़ैद है, मजबूर है !

ये आँखें क्षितिज
पर आश से, विश्वास से
निश्छल देखतीं
हर रश्मि को उल्लास से,

क्योंकि यह है सत्य
उसमें चाह मिलन ज़रूर है !