भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरा दिल-ए-नाशाद जो नाशाद रहेगा / फ़रहत कानपुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरा दिल-ए-नाशाद जो नाशाद रहेगा
आलम दिल-ए-बर्बाद का बर्बाद रहेगा

ता-देर जो हंगामा-ए-फ़रियाद रहेगा
शक है कि कहीं आलम-ए-ईजाद रहेगा

पाबंदी-ए- अक़्दार में आज़ाद रहेगा
लेकिन ये तिरा जौर-ओ-सितम याद रहेगा

दिल अपने ही हाथों से जो बर्बाद रहेगा
अफ़्साना-ए-नाकामी-ए-फ़रियाद रहेगा

दिल सुस्त तो लब तिश्ना-ए-फ़रियाद रहेगा
अब फ़रहत-ए-नाशाद तो नाशाद रहेगा

दिल महव-ए-चमन है तो निगाहों में चमन है
पाबंद-ए-क़फ़स हो के भी आज़ाद रहेगा

ग़ैरों का करम रास न आएगा न आया
आलम दिल-ए-बर्बाद का बर्बाद रहेगा

‘फ़रहत’ तिरे नग़मों की वो शोहरत है जहाँ में
वल्लाह तिरा रंग-ए-सुख़न याद रहेगा