भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरा देश / अर्चना भैंसारे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आज भी पेट पर
पट्टी बाँध
मेरा देश
पचा गया अपनी भूख ।

और देर तक देखता रहा चूल्हे की ठण्डी
राख ।

जबकि हम तृप्ति पा रहे थे
डकारों में...!!