भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरा बदन हो गया पत्थर का / रमेश रंजक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

       मेरा बदन हो गया पत्थर का

‘सोनजुही-से’ हाथ तुम्हारे
लकड़ी के हो गये
हारे दिन फीके हो गये
       नक्शा बदल गया सारे घर का

भिड़ने लगे जोर से दरवाज़े
छत, आँगन, दालान
सभी लगते आधे-आधे
       ख़ारीपन भर गया समुन्दर का

सिमट गयी हैं कछुए-सी बातें
दिन में दो दिन हुए
रात में चार-चार रातें
       तेवर बदला अक्षर-अक्षर का