भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरा भावनालाई / सुमन पोखरेल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरा भावनालाई तिर्सना ठान्यौ शायद
नजीक आउन त्यसैले तिमी डरायौ शायद

दुई पल साथरहे एक जीवन पाउनेथे
धेरै दिनका मौन यी अधर मुस्काउनेथे
यी रात रुँदै काट्ने तिमीले बनायौ शायद
नजीक आउन त्यसैले तिमी डरायौ शायद

आफ्नो भन्छ्यौ जसलाई त्यो आँखा मेरै थियो
मुटुमात्र हैन सब भाव-भाका मेरै थियो
मेरा आफन्तलाई पराई बनायौ शायद
नजीक आउन त्यसैले तिमी डरायौ शायद