भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरा साथी घोड़ा / श्रीप्रसाद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कोई खेले लेकर हाथी
और किसी का बंदर साथी
मेरा साथी घोड़ा
कभी न खाये कोड़ा
मेरा साथी घोड़ा
चल घोड़े, टिक-टिक-टिक चलता
जब चलता तब नहीं मचलता
पर चलता है थोड़ा
मेरा साथी घोड़ा
कभी न खाये कोड़ा
सबसे सुंदर यही सवारी
चढ़कर घूमो दुनिया सारी
जाएगा अलमोड़ा
मेरा साथी घोड़ा
कभी न खाये कोड़ा
छोटे कान, पैर, मुँह छोटा
दुबला नहीं, नहीं है मोटा
इसका कहीं न जोड़ा
मेरा साथी घोड़ा
कभी न खाये कोड़ा
भालू छोड़ा, सीटी छोड़ी
गुड़िया करती पी.टी. छोड़ी
मैंने सब कुछ छोड़ा
मेरा साथी घोड़ा
कभी न खाये कोड़ा।