भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरा होना / शैलजा पाठक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं साथ हूँ उसके
मुझे होना ही चाहिए
ये तय किया सबने मिलकर

मैंने सहा
जो मुझे नही लगा भला कभी
पर उसका हक था
मैं हासिल थी

रातों की देह पर जमने लगी
सावली परतों को उधेडती
उजालों की नज्म को
अपने अंदर बेसुरा होते सुनती

घर को संभालना था
अपने डगमगाते इरादों से
वो भी किया

उसके लिजलिजे इरादों की बली चढ़ी
व्रत उपवास करती हैं सुहागिने
मैंने भी किया

थोपने को रिवाज बना लिया
जो ना करवाना था
वो भी करवा लिया
पाप पुण्य के चक्र में
इस जनम उस जनम के खौफ ने

मैंने बेच दिया अपना होना
तुमने खरीद लिया...