भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरी अम्माँ / मोक्ष गौड़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कितनी अच्छी मेरी अम्माँ,
सीधी-सच्ची मेरी अम्माँ।
बच्चों में मिलकर हो जाती-
बिल्कुल बच्ची मेरी अम्माँ।
मैं जल्दी सो जाऊँ, करती
माथा-पच्ची मेरी अम्माँ।

-साभार: आँख मिचौली, मोक्ष गौड़,8,11