भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरी कलम रुक गई / दीप्ति गुप्ता

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कल पडौस में किसी नवेली दुल्हन ने
तिमंजिले से कूद कर आत्महत्या कर ली
पीड़ा लिए, वो दुनिया से कूच कर गई
मेरी कलम चलते-चलते रुक गई
मेरे मन में उमडती कविता मर गई

परसों दो घर छोड़ कर एक घर में
नवजात बच्ची के रोने की आवाज़
घुट के, माँ के रोने की आवाज़ बन गई
मेरी कलम चलते-चलते रुक गई
मेरे मन में उमडती कविता मर गई

दो दिन पहले एक होनहार मासूम लड़की
नौकरी पे जाते समय अगुवा कर ली गई
शाम ढले, नदी किनारे बेजान पाई गई
मेरी कलम चलते - चलते रुक गई
मेरे मन में उमडती कविता मर गई