भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरी गति / रामेश्वरलाल खंडेलवाल 'तरुण'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब-जब गिरा मैं, अर्घ्य-जल बन कर गिरा,
जब-जब उठा तो दीप की लौ-सा उठा,
जब-जब बढ़ा, तो काल के रथ-सा बढ़ा,
जब-जब रुका, बन पाँव अंगद का रुका!

पथ से फिरा भी तो बहुत कुछ यों कि जैसे-
हाथ अर्जन के खिंचल गाण्डीव धनु की डोर;
प्रबल जिसकी प्रेरणा से तीर जाता-
तोड़ने आकाशचम्बी चोटियों के छोर!