भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरी झोली में / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरी झोली में सपने ही सपने भरे
ले-ले आ कर वही
जिसका भी जी करे ।

एक सपना है फूलों की बस्ती का,
एक सपना है
बस मौज़-मस्ती का,
मुफ़्त की चीज़ है
फिर कोई क्यों डरे ?

एक सपना है
रिमझिम फुहारों का
एक सपना है
झिलमिल सितारों का
एक सपना जो
भूखे का पेट भरे ।
ले-ले कर वही
जिसका भी जी करे ।