भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरी प्यास एक बूँद / विजय कुमार पंत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं ढूंढ़ रही थी
कुवाँ कोई
और मुझसे सागर टकराया
मैं बूंद बूंद
प्यासी अब तक
उसने जी भर जल बरसाया

मैं लौट रही थी
एक आँगन
वो नील गगन में लहराता
मैं मंदिर मंदिर
नत मस्तक
वो खुदा खुदा बन इतराता

खलिहानों खेतों में
मैं थी
वो बाढ़ -बाढ़ बन कर आता
मन के लहराते पौधों को
संग बहा -उड़ा कर ले जाता

अब मेरे निर्जन
घाट देख कर
सबको ऐसा लगता है
सागर के चरणों में रहकर
अस्तित्व ह्रदय भी खोता है

तुम छोड़ मुझे
लेकर लहरें
एक नयी दिशा में जाते हो
फिर फैला अपनी बाँहों को
एक गंगा नयी डुबाते हो

पर सत्य कहूं
तो ऐसा है
मिटने का भाव ये जैसा है
घर -बार छोड़ कर जग सारा
पागल फिरता मारा -मारा
नदिया देती है मीठा जल
सागर करता उसको खारा

बन नदी रही होती अब तक
तो खारे अश्रु न टपकती
अधरों पर प्यास लिए ,
सागर तट पर ,
क्यूँ प्यासी रह पाती ?