भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरी बला से सारी दुनिया उजड़े या आबाद रहे / नासिर परवेज़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरी बला से सारी दुनिया उजड़े या आबाद रहे
तेरी ख़ुशबू जिस में बसी है वो कमरा आबाद रहे

आशिक़ और मअशूक़ का रिश्ता और ज़ियादा पुख़्ता हो
तेरे ज़ुल्म-ओ-जौर सलामत, दिल मेरा आबाद रहे

मेरे घर की दीवारों पर बर्बादी का क़ब्ज़ा है
तेरी गली को जाने वाला हर रस्ता आबाद रहे

सुब्ह सवेरे ख़ाब में देखा, मुझ से कोई ये कहता था
इक तू ही बर्बाद रहे और जग सारा आबाद रहे

इल्म-ओ-हुनर का मरकज़ है और शहर है जौन ओ नासिर का
जब तक चान्द सितारे चमकें अमरोहा आबाद रहे