भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरी बिचारी / भगवती चरण शर्मा 'निर्मोही'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बालापन[1] से ही मिन[2] गैल्या[3], सदा दुख का दीन बितैने,
खोटी-खारी[4] लोखू[5] की सुणिने, इथैं-उथैं[6] की ठोकर खैने।
हूँद[7] कंपिकी कटीने रात, रूड़ो[8] डाल्यूँ[9] का छैल[10] बितैने,
वर्षा ऋतु मा दिवरों उनाये, कई एक चिन्ता तब ऐने।

2.

कभी कबड्डी गिलिडंडा ही, खेलि-खेलिकी दीन गँवैने,
पढ़ि-लिखि छौं फिर कविता कैने, ओर-पोर[11] का ध्यान मिटैने।
इना मयाल्दू[12] त्वै ये की भी, द्वी छूवी[13] त्वैमा कभि नि लगैने,
अपणा दुख का दुखड़ा सुणैकी, रोज त्यारा भी आँसू बगैने।

3.

कभी खूब सी आँगड़ी[14] चदरी, धोती मैं त्वै कुनी ल्हायो,
मेरा मोर[15] तिन अरो बिचारी, कभी पेट भरि खाणु नि खायो।
हँसुली-धगुली[16] दूर रई पर, एक सूत भी मिन[17] नि गढ़ायो[18],
त्यरा[19] नाक को मुरखलु[20] तक भी, पापी पेट की भेंट चढ़ायो।

4.

लाईं-पैरीं[21] देखि बिराणी[22], कभी त्वै कु तैं डाह नि आयो,
अलाणि[23] चीज ल्हाँ, फलाणि[24] ल्हाँ, बोलकि मेरो ज्यू[25] नि जलायो।
जाणदू छौं मैं कभी एक दिन भी, त्वै सन सुख नि दे पायो,
किन्तु त्वै सनै रत्ती भर भी, पछतावा याँ को नि आयो।

5.

[26] छौ त्वै सन सुखी करण को, मैं मु[27] जब कुछ समय बिचारी,
हाय विधाता! निष्ठुर त्वै सन, छिनण लग्यूँ छ मैं से प्यारी।
चोट लगैकी भारी मन पर, जाणी छै तू अरी अगाड़ी[28],
जै[29] ले, कखी जग्वाली[30] मैं सन, औलो मैं भी त्यरा पिछाड़ो[31]

शब्दार्थ
  1. बचपन
  2. मैंने
  3. साथी
  4. खरी-खोटी
  5. लोग
  6. इधर-उधर
  7. जाड़ा
  8. गर्मी
  9. डालियों
  10. छाया
  11. आर-पार
  12. प्यारा
  13. बात
  14. अँगरखा
  15. द्वार
  16. कंगन
  17. मैंने
  18. बनवाया
  19. तुम्हारा
  20. लौंग
  21. ठाठ
  22. दूसरों
  23. यह
  24. वह
  25. हृदय
  26. आया
  27. मेरे पास
  28. आगे
  29. जा
  30. प्रतीक्षा करना
  31. पीछे