भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

मेरी मज़लूमियत पर ख़ून पत्थर से निकलता है / मुनव्वर राना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज



मेरी मज़लूमियत पर ख़ून पत्थर से निकलता है
मगर दुनिया समझती है मेरे सर से निकलता है

ये सच है चारपाई साँप से महफ़ूज़[1]रखती है
मगर जब वक़्त आ जाए तो छप्पर से निकलता है

हमें बच्चों का मुस्तक़बिल[2]लिए फिरता है सड़कों पर
नहीं तो गर्मियों में कब कोई घर से निकलता है

शब्दार्थ
  1. सुरक्षित
  2. भविष्य