भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरी स्याही / अजन्ता देव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सारे उपादान उपस्थित हैं
मैंने ले लिया है एकान्तवास
प्रहरियों ने कर लिए हैं द्वार बंद
विघ्न का कोई अवसर नहीं

कलंक से भी अधिक
कालिमा है मेरी स्याही में
अपमान से अधिक
तीखी है नोक कलम की
प्रशंसा से अधिक चिकना है काग़ज़
मंत्रबिद्ध की तरह मुग्ध हूँ
स्वयं की प्रतिभा पर
फिर भी क्या है
जो रोक रहा है मुझे
न भूतो न भविष्यति रचने से

क्यों अक्षरों के घूम
लगते हैं भूलभूलैया से
यह कौन सा तिर्यक कोण है
जहाँ अपनी ही आँख
दूसरे की हुई जाती है ।