भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरे अनुराग हो तुम / सैयद शहरोज़ क़मर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक्शन शू में मलबूस
दौड़ता हांफता जब मैं पहुंचा था
सर्दी की अलस्सुबह
सुदूर पहाड़ियों की गोद में
और तुम प्रतिदिन की तरह नंगे पैर
बदरंग चिथड़े से शरीर व ठिठुरन को
ढंकने की असफल चेष्ठा किये
पंचवर्षीय योजनाओं को रौंदते निकल पड़ी थी
बूढ़ी माँ की
गिरती साँसों को वापस खींचने के
यत्न में तुम्हारा निर्भय होकर बढ़ाना क़दम
मुझे अच्छा लगा था नज़ाकत में छुपा संघर्ष

तीर बन तुम्हारा करुण जीवन
मेरे मर्म को भेदता
मेरे संस्कार को उद्देलित करता है
सामाजिक वर्जनाओं से
मैं क्यों हो जाता हूँ भयभीत
क़मल की ढाल लिए
नहीं कह पाता तुम्हें
ओ मेरे स्नेहिल
तुम अनुराग हो मेरे
मेरे अनुराग हो तुम