भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरे आंगण मां मेरी कड़वा-सा नीम / हरियाणवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरे आंगण मां मेरी कड़वा सा नीम
ते ढलती ते फिरती छाया पड़ौसिन के घर ढल रही
घरड़ कटा दूं री मां मेरी कड़वा सा नीम
ढलती ते फिरती छाया पड़ौसिन के घर ढल रही
मत काटै मत काटै धी मेरी कड़वा सा नीम
ढलती तै फिरती छाया फेर बाह्वड़ै जी