भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरे आगे तेरी उठे कहा है / हरियाणवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरे आगे तेरी उठे कहा है
एक दरख्त मैंने सुणो बिना जल आप ही बढ़ै
न ले हे सहारो किसी को धरण में आप गढ़ै
बता वह कौन लगावै है डेढ़ फल वाके आवै है
फूल तो दरख्त में ग्यारह बता दे मत हिम्मत हारे
तीन जुग में दरख्त हो है
वा दरख्त का नाम बता दे पूछ रहा तोहे
वा दरख्त का नाम बता दे जिसमें डेढ़ पता है