भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरे जूते / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अहा! गजब के नये-नये
आए हैं मेरे जूते।

चूँ-चूँ, चर-चर चलने में
आवाज सुनाई देती।
एक लाल बत्ती भी इनमें
जली दिखाई देती।
पापाजी मेले से कल
लाए हैं मेरे जूते।

चूँ-चूँ, चर-चर करते जब मैं
यहाँ-वहाँ चलता हूँ।
मम्मी को रहती है सारी
खबर, कहाँ रहता हूँ।
इसीलिए तो उनके मन
भाए हैं मेरे जूते।

अहा! गजब के नये-नये
आए हैं मेरे जूते।