भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरे नाना / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मम्मी के पापा जी
हैं मेरे नाना,
नाना पर आओ
बनाएँ एक गाना!

मैं क्या हूँ नाना का
जल्दी से बोलो,
दरवाज़े बन्द अक़ल के
सारे खोलो।
नाना का दादी से
रिश्ता बतलाना!

'पापा हैं मेरे वो'
मामा ये कहते,
मामा जी नाना के
घर में हैं रहते।
पर क्यों न नाना को
कहते वे नाना?

नाना को लग जाता
नानी का चश्मा,
नानी जी हैं मेरी
अम्माँ की अम्माँ।
नाना जी के भी हैं
क्या कोई नाना?
जल्दी बतलाना जी, जल्दी बतलाना!