भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरे पास नहीं, तेरे पास नहीं / ओसिप मंदेलश्ताम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: ओसिप मंदेलश्ताम  » संग्रह: तेरे क़दमों का संगीत
»  मेरे पास नहीं, तेरे पास नहीं

मेरे पास नहीं, तेरे पास नहीं, उनके पास है

अपने इस समाज की ताकत आज उनके हाथ है

उनका हुक्का भरते हैं मुख़बिर और चुगलख़ोर

डण्डों से और कूप-खोदकों से है उनका ज़ोर


लोग खोलकर अपने नाज़ुक सीपी जैसे होंठ

खींच लेते हैं मन के भीतर उनकी भारी चोट

लहरदार कुंडलियों जैसी सब बातें उनकी, भैया

और वादे सब बेहद मोहक, पर राहें भूलभुलैया


रचेगा तू रक्त से अपने यदि उनका आनन्द औ' सुख

अपने तन पर झेलेगा उनका ज्वार-भाटे-सा दुख

तब तू ही उनका वारिस होगा, जिनका राज्य विशाल

नाम नहीं है उनका कुछ, पर मज़बूत है कंकाल


(रचनाकाल : 6 दिसम्बर, 1936, वरोनिझ)