भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरे मन का भार / केदारनाथ मिश्र ‘प्रभात’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरे मन का भार प्यार से
कैसे तोल सकोगे?
आज मौन का पट प्यारे!
तुम कैसे खोल सकोगे?

हिय-हारक मृदुहीर-हार पर
लुटते लाख-हजार!
किस कीमत पर इन टुकड़ों को
तुम ले मोल सकोगे?

टुक रो देना अरे निर्दयी!
टुक रो देना उर को थाम!
हाय! यही होगा छोटे-से
इस सौदे का सच्चा दाम!