भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरे मन के समंदर में / सुशीला पुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरे मन के समंदर में
ढेर सारा नमक था
बिलकुल खारा
स्वादहीन

उन नोन चट दिनों में
हलक सूख जाती थी
मरुस्थली समय
ज़िद किए बैठा था
नन्हे शिशु-सी मचलती थी प्यास
मोथे की जड़ की तरह
दुःख दुबका रहता था भीतर

उन्ही खारे दिनों में
मेरे हिस्से की मिठास लिए
समंदर की सतह पर
छप-छप करते तुम्हारे पाँव
चले आए सहसा
 
और
नसों में
घुल गया चन्द्रमा ।